India Against Corruption

Register

  India Against Corruption > INDIA AGAINST CORRUPTION > Anna Hazare

Send a Message & Thanks Note to ANNA...

सारे देश में भ्रष्टाचार अब आम हो गया है, दूध की रखवाली,अब बिल्ली का काम हो गया है| दूध पीने .....



166


  #551  
08-05-2012
Junior Member
 
: Aug 2011
: Delhi
: 38
:
: 5 | 0.00 Per Day


सारे देश में भ्रष्टाचार अब आम हो गया है,
दूध की रखवाली,अब बिल्ली का काम हो गया है|

दूध पीने की फिदरत,बिल्ली की पहले से थी,
रखवाली पर उसे बिठाना,संविधान हो गया है|
...
खाने लगी है बाड़ ही, जबसे खेत को,
फसलें उगाना अमन की,हलकान हो गया है|

वो डाकू हैं,हत्यारे है, इसमें संदेह नहीं किसी को,
चोरों को संरक्षण भी,उन्ही का काम हो गया है|

जिन लोगों ऩे लूटा, मेरे देश का धन और मान,
उन्ही को बचाना, सरकार का काम हो गया है
Reply With Quote
  #552  
08-06-2012
Junior Member
 
: Aug 2012
: Motihari
: 69
:
: 7 | 0.00 Per Day

From the very first day of the hunger strike, all media started abusing, defaming against Anna team and they did not show any coverage....I think they wanted to take revenge of some misbehave to reporters. In my view, they are very much intellectual people and they should be neutral and impartial but they are not. Anna team was fighting for the country....but TV media was fighting for their supermacy. They wanted to proove that without media support any aandolam can not survive and media can destroy any agitation if they do not support. Well, Media Sir....you people are supreme but think when Mahatma Gandhi was leading agitation that time you people were not born....but he made the county Independent. Shame on you all....Anna is fighting against corruption to make our country clean and good place to live and you Intellectual people supporting corrupt govt, politician, to damage our agitation. You all deserve a nice place in the Hell.
Reply With Quote
  #553  
08-06-2012
Junior Member
 
: Aug 2012
: saudi arabia
: 34
:
: 2 | 0.00 Per Day

be a good indian citizen
Reply With Quote
  #554  
08-06-2012
Junior Member
 
: Mar 2011
: South Delhi
: 59
:
: 10 | 0.00 Per Day
We are with you

टीम अन्ना का कार्य समाप्त हो गया है

It was a Divine Will, Nothing to worry.


जनलोकपाल कानून सरकार बनाने के लिए राजी नहीं है। कहां तक बार-बार अनशन करते रहोगे। अब अनशन छोड़ो और देश की जनता को विकल्प दे दो। यह मांग जनता से बढ़ती गई। मैंने भी सोचा आज की सरकार से देश का भ्रष्टाचार कम नहीं हो सकता। कारण, सरकार की मंशा ही नहीं है।

Respected Anna ji, I was with you at Jantar Mantar on 2nd April 2011, ( Refer my Profile picture ).

Stage 1 , that bringing an awareness to the Masses was Must and that Objective has been achived.

Point to be Noted : If you request a Crimnal, to make a Law against the Crime that he/ she had Committed, Will he / she ever make a Law ?? Never

Public saab Janti hai aaur Samjhdaar bhi hai , that's a reason the attendence in your last Public meeting was low.

जनलोकपाल कानून से भ्रष्टाचार दूर होगा। यह देशवासियों की आशा थी। लेकिन डेढ साल बीत गए। बार-बार जनता ने आंदोलन करने के बाद भी सरकार जनलोकपाल कानून लाने को तैयार नहीं।

Why a Gang of Crimnals will bring a Law against a Crime , that they had committed ?

अच्छे लोगों को खोज करके जनता को विकल्प देना। यह अच्छा रास्ता है। ऐसा मुझे लगा।

Good , That's what lot's of People were already thinking.

लेकिन होगा कैसे? यह मेरे सामने प्रश्न है।

No Problem's SIR,

मुझे विकल्प देने की बात करने वाले लोगों के सामने जंतर मंतर पर खुलेआम मैंने एक प्रश्न खड़ा किया। आप विकल्प की बात करते हैं।

I-M-POSSIBLE and not Impossible.

मैं देशभर में दौरे करूंगा। लोगों को जागरूक करूंगा अच्छे सदाचारी, राष्ट्रीय दृष्टिकोण है, सामाजिक दृष्टिकोण है, सेवा भाव है ऐसे लोग संसद में नहीं जाएंगे तब तक बदलाव नहीं आएगा। यह बात मुझे मंजूर है लेकिन-

Very Good Idea, but very time consuming and we are running against a time.

1. ऐसे लोगों की खोज करने का तरीका क्या होगा?

Like any Job , they have to apply , Ask for thier CV , get it verified by an Independent set of Detectives ( apply Chanakya Niti ) , Cross Check Verify , References. Prepare your Own set of application form. A Good Human Resourse Person can assist in it's drafting.

They can apply for Gross Root Level and going up in the hierarchy.

2. विकल्प देने के लिए पार्टी बनानी होगी। उस पार्टी बनाते समय पार्टी सदस्य चुनने का तरीका क्या होगा?

Thier Past record, Performance and future comitments are some idicators.

3. आज अधिकांश पार्टी बोर्ड लगाती हैं। सभासद नोदनी (रजिस्ट्रेशन) का काम चालू है। भ्रष्टाचारी हो, गुंडा हो, व्यभाचारी हो, लूटारू हो इनको न देखते हुए भी सभासद बनाती है। इस प्रकार के सभासद बनाए तो इस आंदोलन का क्या होगा?

Anna ji, With due respect , Filteration of Bad Elements have to be done at every stage , while inviting applications for responsible positions. We have to take Gudience from Archarya Chanakya ji and his Neeti's. ( Policies )

4. मैं खुद कोई पक्ष-पार्टी में नहीं बनाऊंगा। मैं चुनाव नहीं लडूंगा। लेकिन जनता के सामने विकल्प देने के लिए जरूर प्रयास करूंगा।

I am also willing to give you a back office support for building an Organization and will not like contest or stand for any postion of power.

5. आज एक चुनाव के लिए 10 से 15 करोड़ रुपए से भी ज्यादा खर्चा होता है। देश को विकल्प देने के लिए इतना पैसा कहां से लाएंगे?

Anna ji, Aap kai hi sabad hai - URJAA mujhe aap loggo sai aa rahi hai. Rupayaa & Paisa is also a form or URJAA. It is required , but its importance shouldn't be prime.

6. चुनाव में चुनकर आने के बाद उनकी बुद्धि का पालट हो गया तो क्या विकल्प है? कारण, जनता चुनकर देते समय अच्छा उम्मीदवार है यह समझकर ही चुनकर देती है। लेकिन कुर्सी का गुण-धर्म है कि कई लोगों की बुद्धि पलट जाती है और स्वार्थ के कारण वह भ्रष्टाचार करने लगते है। जैसे आज कई पार्टियों में दिखाई दे रहा है। उसके बारे में क्या सोच है? ऐसे लोगों की मानटरिंग करने का तरीका क्या है?

Anna ji , First a Bill to be passed on a Right to Recall and other small bills that will take care of a Loop hole's like this, instead of straight away jumping to Jan Lok Pal Bill, in my opinion, but you are a final decision making authourity.

We have to be very careful in our fiteration proccess also, to weed out Parasites & Pollutants kinds of elements that may cause disease to the system.


7. आज पकृति और मानवता का दोहन हो रहा है और सरकार उसे नहीं रोक रही। यह देश के लिए बड़ा खतरा है। क्या विकल्प होगा?

Sirji, In every adversity thier is a seed of equal or better oppourtunity.
F.E.A.R = Future Expections Apearing Real
Change your Mind Set ,
Jo bhi hoga , Saab kai Bhalle kai liya hoga !!



8. जंतर मंतर पर जो हजारों लोग आए थे उनको टीम ने पूछा कि विकल्प देना चाहिए या नहीं और सभी ने हाथ ऊपर उठाए। ये अच्छी बात है। लेकिन सिर्फ जंतर मंतर देश नहीं है। देश बहुत बड़ा है। उनकी भी राय लेना जरूरी है। मेरी अपेक्षा है। देश में 6 लाख गांव हैं। इन सभी गांव की ग्रामसभा की ग्रामसभाओं ने अपना सुझाव पारित करना है कि हम विकल्प मांगते है। इसलिए हमारी ग्रामसभा का सुझाव आपको भेजते हैं कि संसद में अच्छे लोग जाए इस बात से हमारी सहमति है। ग्रामसभा संभव नहीं है वहां पर व्यक्ति ने फार्म पर हस्ताक्षर करके कहने है कि हम विकल्प के लिए तैयार है।

Very Good , we have to take Farmers , Laboures and common man on a Street along with us.


9. जिस प्रकार गांव में ग्रामसभा का सुझाव होगा उसी प्रकार नगर परिषद्, नगरपालिका, महापालिका में वार्ड सभा और मोहल्ला सभा का भी सुझाव करना होगा। तब स्पष्ट होगा कि लोकसभा में अच्छे लोगों को भेजने की जनता की तैयारी है।

Its Essential


ऐसा होता है तो मैं अगले डेढ साल देश में सफर करूंगा।

Good , get connected but it will be very time consuming & tiring.

Suppose , If you POP off what will happen Anna Ji?

A System & Organization is to be Created first, Blue Print to be Prepared, Action plan to be Chalked out, Forces to be Galvanized towards the final GOAL.


और देशवासियों को जगाऊंगा। और जनता से ही अपील करूंगा कि लोकसभा में भेजने के लिए चारित्रशील उम्मीदवार की खोज करो।

Janta is aleady aware of this, Please & Kindly use your time as mentioned above.
Priorities have to be organized


खोज होने के बाद उनका सेवा भाव, चरित्र, राष्ट्र प्रेम, उनका कार्य उसकी मानटरिंग के लिए हमारे कार्यकर्ता जाएगे। उनकी जांच करेंगे। उसके बाद चयन होगा। मैंने महाराष्ट्र में यह प्रयोग किया है। विधानसभा के 12 लोग मैंने चुने थे। उसमें से 8 लोग चुनकर आए थे।

We share Common views and you have already expriemented with it , GOOD.

मैंने संसद में अच्छा उम्मीदवार भेजने का विकल्प देने की बात करते ही कई लोगों ने घोषणा की कि अन्ना ज़ीरो बन गए। मैं तो पहले से ही ज़ीरो हूं, मंदिर में रहता हूं, न धन न दौलत, न कोई पद, अभी भी ज़मीन पर बैठकर सादी सब्जी-रोटी खाता हूं। पहले से ही ज़ीरो है और आखिर तक ज़ीरो रहूंगा। जो पहले से ज़ीरो है उसको ज़ीरो क्या बनाएगे? जिसको कहना है वो कहता रहे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता।

SIRji , ZERO has got a huge Power !! exp : 1/0 = Infinite ,

All the Modern Mathmatics & Science acknowledge the discovery of ZERO ( 0 ) by India, for its advancement.

In Spritual Terms , any one who can achive a state of Mind Less Ness ( i.e a state of Shunya ) , reaches enlightment and is closest to the GOD.



आजतक 25 साल में मेरी बदनामी करने के लिए कम से कम 5 किताबें लिखी गई। कई अखबार वालों ने बदनामी के लिए अग्रलेख (संपादकीय) लिखे है। लेकिन फक़ीर आदमी की फक़ीरी कम नहीं हुई। इस फक़ीरी का आंनद कितना होता है? यह बदनामी करने वाले लोगों को फक़ीर बनना पड़ेगा तक समझ में आएगा। एक बात अच्छी हुई की जितनी मेरी निंदा हुई। उतनी ही जनता और देश की सेवा करने की शक्ति बढ़ी। आज 75 साल की उम्र में भी उतना ही उत्साह है। जितना 35 साल पहले काम करते वक्त था। देश का भ्रष्टाचार कम करने के लिए जनलोकपाल कानून बनवाने के लिए कई बार आंदोलन हुए। 4 बार अनशन हुए। लेकिन सरकार मानने के लिए तैयार नहीं इसलिए टीम ने निर्णय लिया अनशन रोककर विकल्प देना पड़ेगा।


It is a need of an Hour



सरकार से जनलोकपाल की मांग का आंदोलन रुक गया लेकिन आंदोलन समाप्त नहीं हुआ है। पहले सरकार से जनलोकपाल कानून की मांग करते रहे। सरकार नहीं करती इसलिए जनता से ही अच्छे लोग चुनकर संसद में भेजना और जनलोकपाल बनाने का आंदोलन शुरू करने का निर्णय हो गया। अगर जनता ने पीछे डेढ साल से साथ दिया, वह कायम रहा तो जनता के चुने हुए चरित्रशील लोग संसद में भेजेगे। और जनलोकपाल, राइट टू रिजेक्ट, ग्रामसभा को अधिकार, राइट टू रिकॉल जैसे कानून बनवाएंगे। और आने वाले 5 साल में भ्रष्टाचार मुक्त भारत का निर्माण पक्ष और पार्टी से नहीं जन सहभाग से करेंगे।

Absolutely Correct and a proper path

2014 का चुनाव भ्रष्टाचार मुक्त देश बनाने के लिए जनता के लिए आखिरी मौका है। इस चुनाव के बाद फिर से ऐसा मौका मिलना मुश्किल है। कारण, इस वक्त देश जाग गया है। अभी नहीं तो कभी नहीं। मैंने बार-बार बताया है कि मेरा जीवन समाज और देश सेवा में अर्पण किया है। इस वक्त जनता का साथ नहीं मिला तो नुकसान अन्ना का नहीं जनता का होगा। अन्ना तो एक फक़ीर है और मरते दम तक वो फक़ीर ही रहेगा। मैंने अच्छे लोग चुनकर संसद में भेजने का विकल्प दिया है। लेकिन मैं पक्ष-पार्टी में शामिल नहीं होऊंगा। चुनाव भी नहीं लडूंगा। जनता को जनलोकपाल का कानून देकर मैं महाराष्ट्र में अपने कार्य में फिर से लगूंगा। पार्टी निकालने वाले लोगों को भी मैंने बताया है। पार्टी बनाने के बाद भी यह आंदोलन ही रहे। पहले आंदोलन में सरकार से जनलोकपाल कानून मांग रहे थे। अब आंदोलन जारी रखते हुए जनता के सहयोग से अच्छे लोगों को चुनाव में खड़ा करके संसद में भेजो और कानून बनाओ। दिल और दिमाग में सत्ता न रहे, राज कारण न रहे, यह देश की देशवासियों की सेवा समझकर करो। अगर सत्ता और पैसा दिमाग में आ गया तो दुसरी पक्ष-पार्टी और अपनी पार्टी में कोई फर्क नहीं रहेगा। जिस दिन मुझे दिखाई देगा कि देश की समाज की सेवा दूर गई और सिर्फ सत्ता और पैसा का प्रयास हो रहा है। उसी दिन मैं रुक जाऊंगा। आगे नहीं बढूंगा। क्योंकि मैंने समाज और देश की भलाई के लिए विकल्प देने का सोचा है। मेरा जीवन उन्हीं की भलाई के लिए है।

I agree with you Completely , Anna ji.



आज टीम अन्ना का कार्य हम लोगों ने समाप्त किया है। जनलोकपाल के कार्य के लिए टीम अन्ना बना गई थी। सरकार से संबंध् नहीं रखने का निर्णय लिया है। इस कारण आज से टीम अन्ना नाम से चला हुआ कार्य समाप्त हो गया है और अब टीम अन्ना समिति भी समाप्त हुई है।

It's a Divine Will and what ever Team Anna Has done it , I am thankfull to the entire Team and all those who have worked & slogged tirelessly , physically & Mentally over last 2 years and may be more.

Stage 1 is Over and now we have to move over to Stage 2 to achive our desired Goals to have a Corrupion Free India and all the Indians.

भवदीय,

कि. बा. उपनाम अण्णा हज़ारे

Thanks and with Regards

Rakesh

Reply With Quote
  #555  
08-07-2012
Junior Member
 
: Aug 2012
: Delhi/NCR
:
: 6 | 0.00 Per Day

Salute to you Sir!!!

You've ignited the fire of partiotism in Indians, who had been in their deep slumber until now and were in the habit of cribbing about the dirty mire of politics and its adverse effects on the country's miserable socio-economic condition.

However, it's a long battle. Shaheed Bhagat Singh's dream of corruption-free country is far from realization. You've done the right thing by divibng into the political mainstram with gusto.

However, selection of good candidates and make your political alternative realy work, you need an effective strategy, which I think you should leave for great gentlemen like Arvind , Prashant and Kiran bedi. They're doing a great job.

Kudos to you and your team!

ऐ शहीदे-मुल्को-मिल्लत मैं तेरे ऊपर निसार
अब तेरी हिम्मत का चर्चा ग़ैर की महफिल में है ।

वक्त आने दे बता देंगे तुझे ऐ आसमाँ,
हम अभी से क्या बतायें क्या हमारे दिल में है ।
Reply With Quote
  #556  
08-07-2012
Senior Member
 
: May 2012
: Mumbai
: 34
:
: 186 | 0.06 Per Day

टीम अन्ना का कार्य समाप्त हो गया है

It was a Divine Will, Nothing to worry.


जनलोकपाल कानून सरकार बनाने के लिए राजी नहीं है। कहां तक बार-बार अनशन करते रहोगे। अब अनशन छोड़ो और देश की जनता को विकल्प दे दो। यह मांग जनता से बढ़ती गई। मैंने भी सोचा आज की सरकार से देश का भ्रष्टाचार कम नहीं हो सकता। कारण, सरकार की मंशा ही नहीं है।

Respected Anna ji, I was with you at Jantar Mantar on 2nd April 2011, ( Refer my Profile picture ).

Stage 1 , that bringing an awareness to the Masses was Must and that Objective has been achived.

Point to be Noted : If you request a Crimnal, to make a Law against the Crime that he/ she had Committed, Will he / she ever make a Law ?? Never

Public saab Janti hai aaur Samjhdaar bhi hai , that's a reason the attendence in your last Public meeting was low.

जनलोकपाल कानून से भ्रष्टाचार दूर होगा। यह देशवासियों की आशा थी। लेकिन डेढ साल बीत गए। बार-बार जनता ने आंदोलन करने के बाद भी सरकार जनलोकपाल कानून लाने को तैयार नहीं।

Why a Gang of Crimnals will bring a Law against a Crime , that they had committed ?

अच्छे लोगों को खोज करके जनता को विकल्प देना। यह अच्छा रास्ता है। ऐसा मुझे लगा।

Good , That's what lot's of People were already thinking.

लेकिन होगा कैसे? यह मेरे सामने प्रश्न है।

No Problem's SIR,

मुझे विकल्प देने की बात करने वाले लोगों के सामने जंतर मंतर पर खुलेआम मैंने एक प्रश्न खड़ा किया। आप विकल्प की बात करते हैं।

I-M-POSSIBLE and not Impossible.

मैं देशभर में दौरे करूंगा। लोगों को जागरूक करूंगा अच्छे सदाचारी, राष्ट्रीय दृष्टिकोण है, सामाजिक दृष्टिकोण है, सेवा भाव है ऐसे लोग संसद में नहीं जाएंगे तब तक बदलाव नहीं आएगा। यह बात मुझे मंजूर है लेकिन-

Very Good Idea, but very time consuming and we are running against a time.

1. ऐसे लोगों की खोज करने का तरीका क्या होगा?

Like any Job , they have to apply , Ask for thier CV , get it verified by an Independent set of Detectives ( apply Chanakya Niti ) , Cross Check Verify , References. Prepare your Own set of application form. A Good Human Resourse Person can assist in it's drafting.

They can apply for Gross Root Level and going up in the hierarchy.

2. विकल्प देने के लिए पार्टी बनानी होगी। उस पार्टी बनाते समय पार्टी सदस्य चुनने का तरीका क्या होगा?

Thier Past record, Performance and future comitments are some idicators.

3. आज अधिकांश पार्टी बोर्ड लगाती हैं। सभासद नोदनी (रजिस्ट्रेशन) का काम चालू है। भ्रष्टाचारी हो, गुंडा हो, व्यभाचारी हो, लूटारू हो इनको न देखते हुए भी सभासद बनाती है। इस प्रकार के सभासद बनाए तो इस आंदोलन का क्या होगा?

Anna ji, With due respect , Filteration of Bad Elements have to be done at every stage , while inviting applications for responsible positions. We have to take Gudience from Archarya Chanakya ji and his Neeti's. ( Policies )

4. मैं खुद कोई पक्ष-पार्टी में नहीं बनाऊंगा। मैं चुनाव नहीं लडूंगा। लेकिन जनता के सामने विकल्प देने के लिए जरूर प्रयास करूंगा।

I am also willing to give you a back office support for building an Organization and will not like contest or stand for any postion of power.

5. आज एक चुनाव के लिए 10 से 15 करोड़ रुपए से भी ज्यादा खर्चा होता है। देश को विकल्प देने के लिए इतना पैसा कहां से लाएंगे?

Anna ji, Aap kai hi sabad hai - URJAA mujhe aap loggo sai aa rahi hai. Rupayaa & Paisa is also a form or URJAA. It is required , but its importance shouldn't be prime.

6. चुनाव में चुनकर आने के बाद उनकी बुद्धि का पालट हो गया तो क्या विकल्प है? कारण, जनता चुनकर देते समय अच्छा उम्मीदवार है यह समझकर ही चुनकर देती है। लेकिन कुर्सी का गुण-धर्म है कि कई लोगों की बुद्धि पलट जाती है और स्वार्थ के कारण वह भ्रष्टाचार करने लगते है। जैसे आज कई पार्टियों में दिखाई दे रहा है। उसके बारे में क्या सोच है? ऐसे लोगों की मानटरिंग करने का तरीका क्या है?

Anna ji , First a Bill to be passed on a Right to Recall and other small bills that will take care of a Loop hole's like this, instead of straight away jumping to Jan Lok Pal Bill, in my opinion, but you are a final decision making authourity.

We have to be very careful in our fiteration proccess also, to weed out Parasites & Pollutants kinds of elements that may cause disease to the system.


7. आज पकृति और मानवता का दोहन हो रहा है और सरकार उसे नहीं रोक रही। यह देश के लिए बड़ा खतरा है। क्या विकल्प होगा?

Sirji, In every adversity thier is a seed of equal or better oppourtunity.
F.E.A.R = Future Expections Apearing Real
Change your Mind Set ,
Jo bhi hoga , Saab kai Bhalle kai liya hoga !!



8. जंतर मंतर पर जो हजारों लोग आए थे उनको टीम ने पूछा कि विकल्प देना चाहिए या नहीं और सभी ने हाथ ऊपर उठाए। ये अच्छी बात है। लेकिन सिर्फ जंतर मंतर देश नहीं है। देश बहुत बड़ा है। उनकी भी राय लेना जरूरी है। मेरी अपेक्षा है। देश में 6 लाख गांव हैं। इन सभी गांव की ग्रामसभा की ग्रामसभाओं ने अपना सुझाव पारित करना है कि हम विकल्प मांगते है। इसलिए हमारी ग्रामसभा का सुझाव आपको भेजते हैं कि संसद में अच्छे लोग जाए इस बात से हमारी सहमति है। ग्रामसभा संभव नहीं है वहां पर व्यक्ति ने फार्म पर हस्ताक्षर करके कहने है कि हम विकल्प के लिए तैयार है।

Very Good , we have to take Farmers , Laboures and common man on a Street along with us.


9. जिस प्रकार गांव में ग्रामसभा का सुझाव होगा उसी प्रकार नगर परिषद्, नगरपालिका, महापालिका में वार्ड सभा और मोहल्ला सभा का भी सुझाव करना होगा। तब स्पष्ट होगा कि लोकसभा में अच्छे लोगों को भेजने की जनता की तैयारी है।

Its Essential


ऐसा होता है तो मैं अगले डेढ साल देश में सफर करूंगा।

Good , get connected but it will be very time consuming & tiring.

Suppose , If you POP off what will happen Anna Ji?

A System & Organization is to be Created first, Blue Print to be Prepared, Action plan to be Chalked out, Forces to be Galvanized towards the final GOAL.


और देशवासियों को जगाऊंगा। और जनता से ही अपील करूंगा कि लोकसभा में भेजने के लिए चारित्रशील उम्मीदवार की खोज करो।

Janta is aleady aware of this, Please & Kindly use your time as mentioned above.
Priorities have to be organized


खोज होने के बाद उनका सेवा भाव, चरित्र, राष्ट्र प्रेम, उनका कार्य उसकी मानटरिंग के लिए हमारे कार्यकर्ता जाएगे। उनकी जांच करेंगे। उसके बाद चयन होगा। मैंने महाराष्ट्र में यह प्रयोग किया है। विधानसभा के 12 लोग मैंने चुने थे। उसमें से 8 लोग चुनकर आए थे।

We share Common views and you have already expriemented with it , GOOD.

मैंने संसद में अच्छा उम्मीदवार भेजने का विकल्प देने की बात करते ही कई लोगों ने घोषणा की कि अन्ना ज़ीरो बन गए। मैं तो पहले से ही ज़ीरो हूं, मंदिर में रहता हूं, न धन न दौलत, न कोई पद, अभी भी ज़मीन पर बैठकर सादी सब्जी-रोटी खाता हूं। पहले से ही ज़ीरो है और आखिर तक ज़ीरो रहूंगा। जो पहले से ज़ीरो है उसको ज़ीरो क्या बनाएगे? जिसको कहना है वो कहता रहे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता।

SIRji , ZERO has got a huge Power !! exp : 1/0 = Infinite ,

All the Modern Mathmatics & Science acknowledge the discovery of ZERO ( 0 ) by India, for its advancement.

In Spritual Terms , any one who can achive a state of Mind Less Ness ( i.e a state of Shunya ) , reaches enlightment and is closest to the GOD.



आजतक 25 साल में मेरी बदनामी करने के लिए कम से कम 5 किताबें लिखी गई। कई अखबार वालों ने बदनामी के लिए अग्रलेख (संपादकीय) लिखे है। लेकिन फक़ीर आदमी की फक़ीरी कम नहीं हुई। इस फक़ीरी का आंनद कितना होता है? यह बदनामी करने वाले लोगों को फक़ीर बनना पड़ेगा तक समझ में आएगा। एक बात अच्छी हुई की जितनी मेरी निंदा हुई। उतनी ही जनता और देश की सेवा करने की शक्ति बढ़ी। आज 75 साल की उम्र में भी उतना ही उत्साह है। जितना 35 साल पहले काम करते वक्त था। देश का भ्रष्टाचार कम करने के लिए जनलोकपाल कानून बनवाने के लिए कई बार आंदोलन हुए। 4 बार अनशन हुए। लेकिन सरकार मानने के लिए तैयार नहीं इसलिए टीम ने निर्णय लिया अनशन रोककर विकल्प देना पड़ेगा।


It is a need of an Hour



सरकार से जनलोकपाल की मांग का आंदोलन रुक गया लेकिन आंदोलन समाप्त नहीं हुआ है। पहले सरकार से जनलोकपाल कानून की मांग करते रहे। सरकार नहीं करती इसलिए जनता से ही अच्छे लोग चुनकर संसद में भेजना और जनलोकपाल बनाने का आंदोलन शुरू करने का निर्णय हो गया। अगर जनता ने पीछे डेढ साल से साथ दिया, वह कायम रहा तो जनता के चुने हुए चरित्रशील लोग संसद में भेजेगे। और जनलोकपाल, राइट टू रिजेक्ट, ग्रामसभा को अधिकार, राइट टू रिकॉल जैसे कानून बनवाएंगे। और आने वाले 5 साल में भ्रष्टाचार मुक्त भारत का निर्माण पक्ष और पार्टी से नहीं जन सहभाग से करेंगे।

Absolutely Correct and a proper path

2014 का चुनाव भ्रष्टाचार मुक्त देश बनाने के लिए जनता के लिए आखिरी मौका है। इस चुनाव के बाद फिर से ऐसा मौका मिलना मुश्किल है। कारण, इस वक्त देश जाग गया है। अभी नहीं तो कभी नहीं। मैंने बार-बार बताया है कि मेरा जीवन समाज और देश सेवा में अर्पण किया है। इस वक्त जनता का साथ नहीं मिला तो नुकसान अन्ना का नहीं जनता का होगा। अन्ना तो एक फक़ीर है और मरते दम तक वो फक़ीर ही रहेगा। मैंने अच्छे लोग चुनकर संसद में भेजने का विकल्प दिया है। लेकिन मैं पक्ष-पार्टी में शामिल नहीं होऊंगा। चुनाव भी नहीं लडूंगा। जनता को जनलोकपाल का कानून देकर मैं महाराष्ट्र में अपने कार्य में फिर से लगूंगा। पार्टी निकालने वाले लोगों को भी मैंने बताया है। पार्टी बनाने के बाद भी यह आंदोलन ही रहे। पहले आंदोलन में सरकार से जनलोकपाल कानून मांग रहे थे। अब आंदोलन जारी रखते हुए जनता के सहयोग से अच्छे लोगों को चुनाव में खड़ा करके संसद में भेजो और कानून बनाओ। दिल और दिमाग में सत्ता न रहे, राज कारण न रहे, यह देश की देशवासियों की सेवा समझकर करो। अगर सत्ता और पैसा दिमाग में आ गया तो दुसरी पक्ष-पार्टी और अपनी पार्टी में कोई फर्क नहीं रहेगा। जिस दिन मुझे दिखाई देगा कि देश की समाज की सेवा दूर गई और सिर्फ सत्ता और पैसा का प्रयास हो रहा है। उसी दिन मैं रुक जाऊंगा। आगे नहीं बढूंगा। क्योंकि मैंने समाज और देश की भलाई के लिए विकल्प देने का सोचा है। मेरा जीवन उन्हीं की भलाई के लिए है।

I agree with you Completely , Anna ji.



आज टीम अन्ना का कार्य हम लोगों ने समाप्त किया है। जनलोकपाल के कार्य के लिए टीम अन्ना बना गई थी। सरकार से संबंध् नहीं रखने का निर्णय लिया है। इस कारण आज से टीम अन्ना नाम से चला हुआ कार्य समाप्त हो गया है और अब टीम अन्ना समिति भी समाप्त हुई है।

It's a Divine Will and what ever Team Anna Has done it , I am thankfull to the entire Team and all those who have worked & slogged tirelessly , physically & Mentally over last 2 years and may be more.

Stage 1 is Over and now we have to move over to Stage 2 to achive our desired Goals to have a Corrupion Free India and all the Indians.

भवदीय,

कि. बा. उपनाम अण्णा हज़ारे

Thanks and with Regards

Rakesh

thank u anna . i salute to you . your thinking is good and we all are with your party coming election . i think this will be the great way of destroy corruption.
Reply With Quote
  #557  
08-07-2012
Senior Member
 
: May 2012
: Mumbai
: 34
:
: 186 | 0.06 Per Day

I think you are a great warrior who combated for people of india against corruption.
this is the great social work from your side. and from that you awake people and force to them fight against corruption.the another revoluation in india against corruption is done by you. thank you for your great work. and salute to you.
Reply With Quote
  #558  
08-07-2012
Senior Member
 
: May 2012
: Mumbai
: 34
:
: 186 | 0.06 Per Day

Anna you are great....
I cant compare your work with anybody who do any social work because you do all this (corruption free India movement)revolutionary work for all Indians.
thank you anna.
Reply With Quote
  #559  
08-07-2012
Junior Member
 
: Aug 2012
: GHAZIABAD
: 31
:
: 1 | 0.00 Per Day

We will we will rock you <3
Reply With Quote
  #560  
08-07-2012
Junior Member
 
: Aug 2012
: Coimbatore
:
: 1 | 0.00 Per Day
Policies

Eradication of corruption is not a policy. It is the duty of the Government.
The actual policy of a party which comes to power guides the Country.
Please clarify the following:
1) Does the new party wishes to amend the fundamental rights and the Constitution.
2) Will the new party be Secular? If so will it continue relations with people like Ramdev?
3) Does the new party wishes to bring an Uniform Civil Code?
(In my opinion uniform civil code is not at all possible in our Country which is diverse in Cultures. Even in Hinduism lot of different practices are there region to region. eg. In South a girl can marry the mother's brother, whereas in North marriage is not allowed even in the same gothra.)
4) What is going to be the new party's reservation policy?
5) Will the new party continue with economic liberalization?
6) What will be the party's stand regarding relations with Pakistan and on Kashmir Plicy?
The above are some of the basic policies among others

With best wishes for success,
Alex
Reply With Quote




India Against Corruption
India Against Corruption is a PUBLIC Forum, NOT associated with any organisation(s).
DISCLAIMER: Members of public post content on this website. We hold no responsibility for the same. However, abuse may be reported to us.

Search Engine Optimization by vBSEO 3.6.0